स्वास्थ्य

Joint pain relief oil – अब जोड़ों के दर्द की होगी ज़िन्दगी भर की छुट्टी

जोड़ों का दर्द आसानी से होगा दूर, लगाएं घर में बना हुआ ये तेल

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

एक समय था जब जोड़ों के दर्द को बुजुर्गों की समस्या माना जाता था, लेकिन आजकल युवा पीढ़ी भी इसका शिकार हो रही है। ज्यादा देर तक एक ही जगह पर बैठे रहने से गैजेट्स के ज्यादा इस्तेमाल से रीढ़ की हड्डी पर बुरा असर पड़ता है। जिससे कमर दर्द, गर्दन दर्द जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

There was a time when joint pain was considered a problem of the elderly, but nowadays the younger generation is also falling prey to it. Sitting in one place for a long time can have a bad effect on the spinal cord due to excessive use of gadgets. Due to which many problems like back pain, neck pain have to be faced.

रीढ़ की हड्डी पर प्रभाव के कारण स्लिप डिस्क, सर्वाइकल, वर्टिगो, ऑस्टियो, अर्थराइटिस, स्पोनिलाइटिस, स्पाइनल स्टेनोसिस, साइटिका जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में लोग दर्द से बचने के लिए पेनकिलर का सहारा लेने लगते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पेनकिलर लेने से भविष्य में आपकी किडनी और लीवर पर बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे में आप चाहें तो दर्द से छुटकारा पाने के लिए योग के साथ-साथ इस आयुर्वेदिक तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Due to the impact on the spinal cord, diseases like slip disc, cervical, vertigo, osteo, arthritis, sponylitis, spinal stenosis, sciatica have to be faced. In such a situation, people start resorting to painkillers to avoid pain. But did you know that taking painkillers can have a bad effect on your kidneys and liver in the future? In such a situation, if you want, you can use this Ayurvedic oil along with yoga to get rid of pain.

स्वामी रामदेव के अनुसार विभिन्न जड़ी-बूटियों से बना यह तेल आपको हड्डियों के दर्द से राहत देगा। जानिए इसे बनाने का आसान तरीका।

According to Swami Ramdev, this oil made from various herbs will give you relief from bone pain. Learn the easy way to make it.

आयुर्वेदिक तेल बनाने का तरीका ( homemade ayurvedic oil for joint pain )

स्वामी रामदेव के मुताबिक, इस आयुर्वेदिक तेल को तीन तरीकों से बनाया जा सकता हैं। 

According to Swami Ramdev, this Ayurvedic oil can be prepared in three ways.

  • एक कढ़ाई में आधा लीटर तेल डालकर गर्म करें। गर्म हो जाने पर इसमें पीड़ांतक क्वाथ डालकर अच्छी तरह से धीमी आंच में पकाएं। इस तेल में आधा लीटर पानी भी डाल दें। इसे तब तक पकने दें जब तक कि पानी खत्म न हो जाए। इसके बाद गैस को बंद कर दें और ठंडा होने के बाद तेल को छान लें। 
  • Heat half a liter of oil in a pan. When it becomes hot, add a quencher to it and cook it well on low flame. Add half a liter of water to this oil. Let it cook till the water runs out. After this, turn off the gas and filter the oil after it cools down.
  • एक पैन में आधा लीटर पानी लें और गर्म करें। गर्म हो जाने पर पीड़ांतक क्वाथ डाल दें। इसके बाद इसमें तेल डालकर दें और धीमी आंच में पकने दें। जब इसका पानी खत्म हो जाए तो इसे ठंडा करके छान लें। 
  • Take half a liter of water in a pan and heat it. When it becomes hot, put the sore cloth. After that add oil to it and let it cook on low flame. When its water runs out, cool it and filter it.
  • अगर आपको पीड़ांतक क्वाथ नहीं मिल रहा हैं तो किचन में मौजूद कुछ चीजों का इस्तेमाल कर सकते हैं। एक कढ़ाई में तेल डालें। इसके बाद इसमें इमामदस्ता में कूटा हुआ लहसुन, अजवाइन, हल्दी, अदरक, सौंठ डालकर धीमी आंच में पका लें। इसके बाद ठंडा करके इसे छान लें। 
  • If you are not getting a sore throat, then you can use some things present in the kitchen. Put oil in a pan. After this, add crushed garlic, celery, turmeric, ginger, dry ginger in it and cook it in low flame. After that cool it and filter it.

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी फिटनेस व्यवस्था या चिकित्सकीय सलाह शुरू करने से पहले कृपया डॉक्टर से सलाह लें। 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button