राष्ट्रीयव्यापार

 रुपया पहली बार 80 के पार पहुंचा, जानिये पूरी बात

( published by – Seema Upadhyay )

रुपया मंगलवार को पहली बार 80 रुपये प्रति डॉलर के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर गया है. पिछले एक साल के दौरान रुपये में करीब सात फीसदी की गिरावट आई है।
मंगलवार को शुरुआती बाजार में मुद्रा 80.0175 रुपये प्रति डॉलर पर कारोबार कर रही है, जो मंगलवार को अपने पिछले कारोबारी दिन की तुलना में 79.9775 से गिर रही है। बाजार के जानकारों के मुताबिक मंगलवार को रुपया 79.85 से 80.15 के दायरे में कारोबार कर सकता है.

आपको बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक दिन पहले सोमवार को ही कहा था कि दिसंबर 2014 के बाद से भारतीय रुपये की कीमतों में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 25 फीसदी की गिरावट आई है.

वित्त मंत्री ने यह भी कहा था कि हाल के दिनों में रुपये के मूल्यह्रास का कारण अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों और पिछले फरवरी से रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध है।

इस दौरान वित्त मंत्री ने यह भी कहा है कि पिछले कुछ दिनों में ब्रिटिश पाउंड, जापानी येन और यूरोपीय संघ की मुद्रा भारतीय मुद्रा की तुलना में यूरो डॉलर के मुकाबले ज्यादा कमजोर हुई है। इन देशों की मुद्रा की तुलना में भारतीय मुद्रा में मजबूती आई है।

अमेरिका में बढ़ रही महंगाई के कारण टूट रहा रुपया

बाजार के जानकारों के मुताबिक यूरोपीय संघ के बाजारों में मंदी की आशंका को देखते हुए पिछले कुछ महीनों में दुनिया भर के निवेशक अपेक्षाकृत सुरक्षित अमेरिकी बाजार में निवेश करना पसंद कर रहे हैं, यही वजह है कि डॉलर लगातार यूरोपीय देशों की मुद्राओं की तुलना कर रहा है। संघ और एशियाई देश। मैं मजबूत हो रहा हूं। अमेरिका में बढ़ती महंगाई के चलते वहां के निवेशक विदेशों से अपना निवेश घटाकर घरेलू बाजार में लगा रहे हैं, जिससे डॉलर मजबूत हो रहा है।

एक महीने में ऐसे टूटा रूपया 

19 जुलाई- 80.01/डॉलर
14 जुलाई- 79.94/डॉलर 
13 जुलाई – 79.68/डॉलर
12 जुलाई – 79.65/डॉलर
5 जुलाई – 79.37/डॉलर
1 जुलाई – 79.12/डॉलर
28 जून – 78.57/डॉलर
22 जून – 78.39/डॉलर

क्रूड ऑयल की कीमतें बढ़ने से कमजोर हो रहा रुपया 

वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के कारण रुपये में गिरावट आ रही है। सऊदी अरब द्वारा कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ाने के अपने वादे को पूरा करने में विफल रहने के बाद वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में पांच प्रतिशत तक की उछाल देखने को मिल रही है।

इससे डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सऊदी अरब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से किया गया वादा पूरा नहीं कर पा रहा है, जिसके चलते बाजार में कच्चा तेल महंगा होता जा रहा है. कच्चा तेल महंगा हो रहा है, डॉलर मजबूत हो रहा है और रुपया कमजोर हो रहा है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button