खबर हटके

Maharana Pratap की जीवनी !!

महाराणा प्रताप का जन्म पाली जिले में हुआ था और उनका ननिहाल पाली में था मुंशी देवी प्रसाद द्वारा रचित सरस्वती के भाग 18 में सात पंक्तियां में ताम्र पत्र उल्लेखित है

PUBLISHED BY – LISHA DHIGE

महाराणा प्रताप सिंह सिसोदिया उदयपुरमेवाड़ में सिसोदिया राजवंश के राजा थे उनका नाम इतिहास में वीरता, शौर्य, त्याग, पराक्रम और दृढ प्रण के लिये अमर है। उन्होंने मुगल बादशहा अकबर की अधीनता स्वीकार नहीं की और कई सालों तक संघर्ष किया। महाराणा प्रताप सिंह ने मुगलों को कईं बार युद्ध में भी हराया और पूरे मुगल साम्राज्य को घुटनो पर ला दिया

उनका जन्म वर्तमान राजस्थान के कुम्भलगढ़ में महाराणा उदयसिंह एवं माता रानी जयवन्ताबाई के घर हुआ था। लेखक जेम्स टॉड के अनुसार महाराणा प्रताप का जन्म मेवाड़ के कुम्भलगढ में हुआ था। इतिहासकार विजय नाहर के अनुसार राजपूत समाज की परंपरा व महाराणा प्रताप की जन्म कुण्डली व कालगणना के अनुसार महाराणा प्रताप का जन्म पाली के राजमहलों में हुआ।

महाराणा प्रताप का जन्म पाली जिले में हुआ था और उनका ननिहाल पाली में था मुंशी देवी प्रसाद द्वारा रचित सरस्वती के भाग 18 में सात पंक्तियां में ताम्र पत्र उल्लेखित है

PHOTO -@SOCIALMEDIA

जन्म स्थान

महाराणा प्रताप की जन्मभूमि के प्रश्न पर दो मत हैं। पहले महाराणा प्रताप का जन्म कुम्भलगढ़ किले में हुआ था क्योंकि महाराणा उदयसिंह और जयवंताबाई का विवाह कुम्भलगढ़ महल में हुआ था। एक अन्य मान्यता यह भी है कि उनका जन्म पाली के महलों में हुआ था। महाराणा प्रताप की माता का नाम जयवंता बाई था, जो पाली के सोंगरा अखैराज की पुत्री थीं। महाराणा प्रताप का बचपन भील समुदाय के साथ बीता, वे भीलों के साथ युद्ध कला सीखते थे, भील ​​अपने बेटे को कीका कहते थे, इसलिए भील महाराणा को कीका कहते थे। हिंदुवा सूर्य महाराणा, विजय नाहर द्वारा लिखित प्रताप के अनुसार, जब प्रताप का जन्म हुआ, उदय सिंह युद्ध और असुरक्षा से घिरे थे। कुम्भलगढ़ किसी भी तरह से सुरक्षित नहीं था। जोधपुर के शक्तिशाली राठौरी राजा राजा मालदेव उन दिनों उत्तर भारत में सबसे शक्तिशाली थे। और जयवंता बाई के पिता और पाली के शासक सोंगारा अखराज मालदेव के एक विश्वसनीय सामंत और सेनापति थे।

इस कारण पाली और मारवाड़ हर तरह से सुरक्षित थे और रणबंका राठौड़ की कामध्वज सेना के सामने अकबर की शक्ति बहुत कम थी, अतः जयवंता बाई को पाली भेजा गया। वी.सं. प्रताप का जन्म ज्येष्ठ शुक्ल तृतीया को 1597 में पाली मारवाड़ में हुआ था। प्रताप के जन्म का शुभ समाचार मिलते ही उदयसिंह की सेना ने कूच कर दिया और बनवीर को मावली युद्ध में जीतकर चित्तौड़ की गद्दी पर अधिकार कर लिया। देवेंद्र सिंह, भारतीय प्रशासनिक सेवा के एक सेवानिवृत्त अधिकारी। महाराणा प्रताप के प्रमुख सहयोगी शाक्तवत ग्रंथ के अनुसार महाराणा प्रताप का जन्म स्थान जूनी कचहरी पाली में महाराव के गढ़ के अवशेष मौजूद हैं। यहां सुनारों की कुलदेवी नागनाची का मंदिर आज भी सुरक्षित है। ग्रंथ के अनुसार पुरानी परम्पराओं के अनुसार कन्या का पहला पुत्र उसके पीहर में होता है।

इतिहासकार अर्जुन सिंह शेखावत के अनुसार महाराणा प्रताप की जन्म कुण्डली जन्म के समय से मध्य रात्रि 12/17 से 12/57 के बीच पुरानी दिन-समय पद्धति के अनुसार तैयार की गई है। 5/51 पाल्मा सूर्योदय 0/0 को स्पष्ट सूर्य जानना आवश्यक है, क्योंकि यह जन्म समय अनुकूल है। यदि यह कुण्डली चित्तौड़ या मेवाड़ में बनती तो प्रात:काल सूर्य की राशि भिन्न होती। सुबह का सूर्योदय काल विकल पाली के समान है, जिसे पंडित द्वारा स्थान की गणना करने की पुरानी पद्धति द्वारा बनाया गया था।

डॉ हुकमसिंह भाटी की पुस्तक सोंगरा संचोरा चौहान का इतिहास 1987 और इतिहासकार मुहता नैन्सी की पुस्तक ख्यात मारवाड़ रा परगना री विगट भी स्पष्ट है “पाली के सुप्रसिद्ध ठाकुर अखेराज सोंगारा की पुत्री जयवंताबाई, वि. संख्या 1597 जेष्ठा सुदी तीसरा रविवार सूर्योदय से 47 घंटे 13 मिनट बीत गए, ऐसा देदीप्यमान बच्चा पैदा हुआ है। धन्य है यह पाली भूमि, जिस प्रताप जैसे रत्न को जन्म दिया है।

जीवन

राणा उदय सिंह की दूसरी रानी धीरबाई, जो राज्य के इतिहास में रानी भटियानी के नाम से जानी जाती हैं, अपने पुत्र कुंवर जगमाल को मेवाड़ का उत्तराधिकारी बनाना चाहती थीं। जगमल प्रताप के उत्तराधिकारी के विरोध के रूप में अकबर के खेमे में जाता है। महाराणा प्रताप का प्रथम राज्याभिषेक गोगुन्दा में 28 फरवरी 1572 ई. को हुआ, किन्तु विधान के अनुसार राणा प्रताप का द्वितीय राज्याभिषेक कुम्भलगढ़ दुर्ग में 1572 ई. में हुआ, द्वितीय राज्याभिषेक में जोधपुर के राठौर शासक राव चन्द्रसेन थे।

राणा प्रताप ने अपने जीवन में कुल 11 शादियाँ की थी, उनकी पत्नियों और उनसे प्राप्त पुत्र-पुत्रियों के नाम हैं

  1. महारानी अजबदे पंवार :- अमरसिंह और भगवानदास
  2. अमरबाई राठौर :- नत्था
  3. शहमति बाई हाडा :-पुरा
  4. अलमदेबाई चौहान:- जसवंत सिंह
  5. रत्नावती बाई परमार :-माल,गज,क्लिंगु
  6. लखाबाई :- रायभाना
  7. जसोबाई चौहान :-कल्याणदास
  8. चंपाबाई जंथी :- कल्ला, सनवालदास और दुर्जन सिंह
  9. सोलनखिनीपुर बाई :- साशा और गोपाल
  10. फूलबाई राठौर :-चंदा और शिखा
  11. खीचर आशाबाई :- हत्थी और राम सिंह

महाराणा प्रताप के शासन काल का सबसे रोचक तथ्य यह है कि मुगल बादशाह अकबर बिना युद्ध के प्रताप को अपने अधीन करना चाहता था, इसलिए अकबर ने प्रताप को मनाने के लिए चार राजदूत नियुक्त किए, जिसमें जलाल खां सबसे पहले सितंबर 1572 में प्रताप के खेमे में गया। इसी क्रम में मानसिंह (1573 ई.), भगवानदास (सितम्बर, 1573 ई.) तथा राजा टोडरमल (दिसम्बर, 1573 ई.) प्रताप को मनाने पहुँचे, पर राणा प्रताप ने चारों को निराश कर दिया, इस प्रकार राणा प्रताप ने मुगलों की अधीनता स्वीकार करने से इंकार कर दिया, जिसका परिणाम हल्दी घाटी की ऐतिहासिक लड़ाई।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button