अपराध

पशु तस्करी मामले में पश्चिम बंगाल में CBI का छापा

West Bengal: पशु तस्करी मामले में पश्चिम बंगाल में CBI का छापा, टीएमसी पार्षद को हिरासत में लिया गया

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

पश्चिम बंगाल में पशु तस्करी मामले में सीबीआई की टीम का छापा सूत्रों के मुताबिक सीबीआई के अधिकारी कोलकाता और बोलपुर में चार स्थानों पर पहुंचे। जानकारी के मुताबिक, सीबीआई ने जितने भी ठिकानों पर छापेमारी की है, वे टीमएसी नेता अनुब्रत मंडल के करीबी रिश्तेदारों से जुड़े हुए हैं.

टीएमसी पार्षद को हिरासत में लिया

छापेमारी के दौरान सीबीआई की टीम ने टीएमसी पार्षद विश्वज्योति बंद्योपाध्याय को हिरासत में लिया है. जांच एजेंसी के एक अधिकारी ने बताया कि पशु तस्करी घोटाले में गिरफ्तार अनुब्रत मंडल के साथ पार्षद के करीबी संबंध थे और जांच के दौरान उसका नाम भी सामने आया. अधिकारियों ने बताया कि अनुब्रत मंडल के दो अन्य करीबी रिश्तेदारों के आवासों पर छापेमारी की गई है. अधिकारी ने बताया कि हमारी जांच में तीन लोगों के नाम सामने आए हैं। इस मामले में उनकी क्या भूमिका है, इसका पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

अनुब्रत मंडल से हो सकती है पूछताछ

छापेमारी के दौरान सीबीआई की टीम ने टीएमसी पार्षद विश्वज्योति बंद्योपाध्याय को हिरासत में लिया है. जांच एजेंसी के एक अधिकारी ने बताया कि पशु तस्करी घोटाले में गिरफ्तार अनुब्रत मंडल के साथ पार्षद के करीबी संबंध थे और जांच के दौरान उसका नाम भी सामने आया. अधिकारियों ने बताया कि अनुब्रत मंडल के दो अन्य करीबी रिश्तेदारों के आवासों पर छापेमारी की गई है. अधिकारी ने बताया कि हमारी जांच में तीन लोगों के नाम सामने आए हैं। इस मामले में उनकी क्या भूमिका है, इसका पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

2020 में दर्ज किया था केस

सीबीआई ने 2020 में पशु तस्करी के मामले में मामला दर्ज किया था। इसमें अनुब्रत मंडल का भी नाम सामने आया था। सीबीआई के मुताबिक, 2015 से 2017 के बीच सीमा सुरक्षा बल को 20,000 से अधिक जानवरों के कटे हुए सिर मिले थे। इस मामले में उन्हें हाल ही में सीबीआई ने तलब किया था, लेकिन वह नहीं पहुंचे. इस मामले में केंद्रीय एजेंसी ने बीरभूम जिले में उसके करीबी लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की थी. वहां से भारी मात्रा में नकदी बरामद हुई है। सीबीआई ने मंडल को 10 समन भेजे थे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button