अपराध

अंकिता के आखिरी शब्द-जैसे मैं मर रही, शाहरुख भी मरे

अंकिता के आखिरी शब्द-जैसे मैं मर रही, शाहरुख भी मरे:मौत से पहले बोली- सुबह 4 बजे खिड़की से पेट्रोल फेंक, आग लगाकर भाग गया

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

झारखंड के दुमका की अंकिता अपने दोषी शाहरुख के लिए मौत की सजा चाहती थी। मौत से पहले दिए गए बयान में उन्होंने कहा- जिस तरह मैं उनकी वजह से मर रही हूं, उसे भी उसी तरह सजा मिलनी चाहिए. जब उससे यह पूछा गया – क्या आपको ये चाहिए तो उन्होंने कहा- हां।

अंकिता ने कैमरे के सामने घटना की पूरी कहानी सुनाई। रात 10 बजे उसने अपने पिता को शाहरुख की धमकी के बारे में बताया। पापा ने कहा कि चलो सुबह देखते हैं। सुबह होने से पहले ही अंकिता को जिंदा जला दिया गया था। सुबह करीब 4 बजे शाहरुख ने खिड़की से पेट्रोल डालकर आग लगा दी। अंकिता ने बताया था कि उसने भी खिड़की खोलकर देखा था, शाहरुख के साथ एक और लड़का छोटू था।

SIT करेगी जांच

अंकिता हत्याकांड में एसपी की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया गया है. एडीजी एमएल मीणा ने जानकारी देते हुए बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी इसकी निगरानी करेंगे. अब तक 2 आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है। मामले में हर एंगल से जांच चल रही है।

जांच के लिए 10 सदस्यीय टीम पहुंची

दुमका स्थित अंकिता के घर सीआईडी ​​डीएसपी संदीप कुमार गुप्ता के नेतृत्व में 10 सदस्यीय जांच टीम पहुंची। टीम में सीआईडी, फॉरेंसिक और फिंगर प्रिंट ब्यूरो के सदस्य शामिल हैं।

शाहरुख ने खिड़की से पेट्रोल डाल आग लगा दी थी

23 अगस्त को अंकिता दुमका के जरुवाडीह मोहल्ले में अपने घर में सो रही थी. फिर शाम करीब 5 बजे पड़ोसी शाहरुख हुसैन ने खिड़की से पेट्रोल डालकर आग लगा दी। पांच दिन इलाज के बाद उसकी मौत हो गई।

2 साल से परेशान करता था शाहरुख

अंकिता को 2 साल से परेशान कर रहे थे शाहरुख दोस्ती के लिए दबाव। इस बात की शिकायत अंकिता ने अपने पिता से भी की थी, लेकिन बदनामी के डर से उन्होंने आगे कोई कदम नहीं उठाया। इसके बाद जब शाहरुख को ज्यादा परेशानी होने लगी तो वह पुलिस में शिकायत करने गए, लेकिन शाहरुख के बड़े भाई ने माफी मांग ली। कहा कि वह अब ऐसा नहीं करेंगे। कुछ दिनों की शांति के बाद उसकी हरकत फिर से शुरू हो गई। पिछले 15 दिनों से वह अंकिता को बहुत ज्यादा परेशान कर रहा था।

जांच से हटाए गए SDPO

अंकिता हत्याकांड में पक्षपात के आरोपों से घिरे एसडीपीओ नूर मुस्तफा को मामले की जांच से हटा दिया गया है. मुस्तफा पर शाहरुख को बचाने का आरोप लगाया जा रहा था. वहीं झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने दोषियों के खिलाफ हत्या का मामला 302 के तहत दर्ज करने की मांग की है.

मौत के बाद हुए कई जिलों में हो रहा है भारी प्रदर्शन

अंकिता सिंह की मौत के बाद दुमका ही नहीं रांची और गिरिडीह समेत राज्य के अन्य जिलों में भी प्रदर्शन हुए. दुमका में बजरंग दल, बीजेपी समेत कई सामाजिक संगठनों ने सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया. वहीं रांची के फिरयालाल चौक और मोराबादी में बापू वाटिका के सामने सामाजिक संगठनों ने भी प्रदर्शन किया. इस घटना का आक्रोश गिरिडीह में भी देखने को मिला.

IPS अफसर बनना चाहती थी अंकिता

अंकिता सिंह तीन भाई-बहनों में मंझली थीं। बड़ी बहन की शादी हो चुकी है, जबकि 12 साल का छोटा भाई अभी पढ़ाई कर रहा है। अंकिता आईपीएस बनना चाहती थी। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। पिता एक बिस्किट कंपनी में सेल्समैन का काम करते हैं। परिवार में दादा-दादी हैं। उनकी मां का पिछले साल निधन हो गया था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button