धर्म
Trending

Ganesh Chaturthi 2022: जाने पूरी कहानी?

Ganesh Chaturthi 2022: गणेशजी को क्यों प्रिय है सिंदूर? जानें लाल सिंदूर चढ़ाने के फायदे और नियम

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

गणेश चतुर्थी हर साल भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाई जाती है। इस बार 31 अगस्त 2022 को गणेश चतुर्थी का पर्व धूमधाम से मनाया जाएगा. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसी दिन सुख-समृद्धि के देवता भगवान गणेश का जन्म हुआ था। गणपति महाराज को शुभता, बुद्धि, सुख और समृद्धि का देवता माना जाता है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जहां भगवान गणेश स्वयं निवास करते हैं, वहीं रिद्धि-सिद्धि, शुभता और लाभ का भी वास होता है। पंडित इंद्रमणि घनस्याल बताते हैं कि उनकी पूजा से शुरू किए गए किसी भी काम में कोई बाधा नहीं आती है, इसलिए भगवान गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है।

गणपति को सिंदूर चढ़ाने के फायदे

गणेश पुराण की कथा के अनुसार, जब गणेश बचपन में थे, तब उन्होंने सिंदूर नामक राक्षस का वध किया था। इसके बाद गणेश जी ने अपना रक्त अपने शरीर पर लगाया। ऐसा माना जाता है कि इसी वजह से गणपति महाराज को लाल सिंदूर बहुत प्रिय होता है। स्नान के बाद गणेश जी को लाल सिंदूर चढ़ाने से गणेश जी की कृपा मिलती है। घर में सुख-समृद्धि आती है। गणेश जी की कृपा से आपको हर क्षेत्र में सफलता मिलेगी।

गणेश जी को सिंदूर कैसे अर्पित करें?

सबसे पहले स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहनने चाहिए। इसके बाद उत्तर या ईशान कोण की ओर मुख करके गणेश जी की पूजा करें। गणेश जी की मूर्ति या चित्र पर जल छिड़कें। बत्ती से गाय के घी का दीपक जलाएं। लाल फूल या दूर्वा घास चढ़ाएं। सुगंधित फूलों की हल्की अगरबत्ती जलाएं। फिर निम्नलिखित मंत्र का जाप करके भगवान गणेश के माथे पर सिंदूर लगाएं। फिर इसे अपने और उपस्थित लोगों के माथे पर लगाएं। मोदक या मौसमी फल चढ़ाएं। इस प्रकार पूजा पूर्ण करें।

गणेश जी के इस मंत्र का करे उच्चारण।

सिन्दूरं शोभनं रक्तं सौभाग्यं सुखवर्धनम्.
शुभदं कामदं चैव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम्…

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button