खबर हटके

जाने गुजरात के ‘Chote Udaipur’ की पूरी कहानी…

राजस्थान में ही नहीं Gujarat में भी है ‘Chhota Udaipur’, गुजरातियों को बड़ी पसंद आती है ये जगह

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

आपने आज तक राजस्थान के उदयपुर के बारे में सुना होगा, जहां का शाही अंदाज लोगों को इतना पसंद आता है कि दिल्ली ही नहीं बल्कि देश भर से लोग यहां आने का मौका देखते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं, जिस तरह राजस्थान का उदयपुर लोगों के बीच इतना प्रसिद्ध है, उसी तरह गुजरात में एक उदयपुर है, जिसे ‘छोटा उदयपुर’ के नाम से जाना जाता है।

छोटा उदयपुर गुजरात राज्य का एक पर्यटन शहर और नगर पालिका है। यह एक झील के किनारे बसा शहर है। इसके अलावा छोटा उदयपुर में देखने लायक कई तीर्थ स्थल पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। गुजरातियों के घूमने के लिए यह जगह बहुत ही पसंदीदा है। आइए आपको बताते हैं इस जगह के बारे में।

छोटा उदेपुर संग्रहालय – Chhota Udepur Museum

छोटा उदेपुर संग्रहालय छोटा उदेपुर शहर में स्थित है, जो जिले के आदिवासियों के रंगीन जीवन को दर्शाता है। पारिवारिक जीवन, रोजमर्रा की गतिविधियों, कला कार्य, पेंटिंग आदि को यहां खूबसूरती से रखा गया है। संग्रहालय सोमवार से शनिवार तक सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक खुलता है।

बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर – BAPS Swaminarayan Mandir

BAPS स्वामीनारायण मंदिर छोटा उदेपुर से लगभग 35 किलोमीटर दूर है। एक विशाल तीर्थ परिसर में स्थित स्वामीनारायण मंदिर, जिले के कई हिंदुओं के दिलों में एक विशेष स्थान रखता है। दीवारों पर शानदार पत्थर की मूर्तियां मंदिर की मुख्य विशेषता का प्रतिनिधित्व करती हैं। स्वामीनारायण के बलिदानों को यहां बहुत अच्छे से दिखाया गया है। आप राज्य सरकार की बस और निजी बसों का उपयोग करके छोटा उदयपुर से इस मंदिर तक पहुँच सकते हैं।

काली निकेतन – Kali Niketan

छोटा उदयपुर के राजा कला और वास्तुकला के बहुत शौकीन थे, उन्होंने काली-निकेतन जैसे शानदार महल भी बनवाए, जिन्हें शुरू में नाहर विला के नाम से जाना जाता था, लेकिन बाद में इसका नाम बदलकर काली-निकेतन कर दिया गया, जिसका अर्थ है, भारत में देवी काली का निवास। संरचना में छह एसी कमरे, दो ड्राइंग रूम, दो डाइनिंग रूम, दो लाउंज और पांच आंगन शामिल हैं।

हफेश्वर – Hafeshwar

हाफेश्वर मंदिर छोटा उदेपुर के प्रमुख शहर से लगभग 40 किमी दूर कावंत तालुका में स्थित है। यह एक पुराना शिव मंदिर है जो साल के अधिकांश समय पानी में डूबा रहता है। पानी में जाने के बाद आप केवल मंदिर के ऊपरी हिस्से को देख सकते हैं, बाकी नर्मदा क्षेत्र में पानी के नीचे डूबा हुआ है। स्थानीय लोगों के अनुसार यह एक प्राचीन शिव मंदिर है जो काफी समय से एक पहाड़ी पर स्थित है।

रतनमहल अभयारण्य – Ratanmahal Sanctuary

इस स्थान पर भालू, तेंदुआ और कई प्रकार के पक्षियों को देखा जा सकता है। यह जगह 80 दूर स्थित है। तेंदुए से भी ज्यादा खतरनाक माने जाने वाले स्लॉथ भालू को भी यहां देखा जा सकता है। लोटन सनबर्ड, लार्ज ग्रीन बार्बेट, येलो चेकर्ड टिट, क्रेस्टेड सर्पेंट ईगल, ग्रे जंगल फाउल और पिट वाइपर भी इस स्थान पर देखे जा सकते हैं।

कैसे पहुंचें छोटा उदयपुर – How to Reach Chhota Udepur

हवाईजहाज से: पास का हवाई अड्डा वडोदरा है, जो अन्य शहरों से जुड़ा हुआ है।

रेल द्वारा: पास का रेलवे स्टेशन वडोदरा है। शताब्दी एक्सप्रेस, अहमदाबाद एक्सप्रेस, गुजरात मेल यहां की कुछ खास ट्रेनें हैं।

सड़क द्वारा: राज्य परिवहन की बसें शहर से होकर चलती हैं और देश के अन्य हिस्सों से जुडी हुई हैं।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button