छत्तीसगढ़

Raipur : राज्योत्सव की तैयारियां अंतिम चरण में !! 

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में 01 से 03 नवंबर तक आयोजित होने वाले राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव और राज्योत्सव की तैयारियां अंतिम चरण में हैं.

PUBLISHED BY – LISHA DHIGE

state festival : छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में 01 से 03 नवंबर तक आयोजित होने वाले राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव और राज्योत्सव की तैयारियां अंतिम चरण में हैं. साइंस कॉलेज मैदान में मुख्य मंच, मंडप, स्टाल, विभिन्न विभागों के प्रवेश द्वार का निर्माण लगभग पूरा हो चुका है। राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए देश-विदेश से मेहमान भी राजधानी रायपुर पहुंचे हैं और यह सिलसिला जारी है.

PHOTO -@SOCIALMEDIA

The preparations for the National Tribal Dance Festival and Rajyotsava to be held from November 01 to 03 at the Science College ground in Raipur, the capital of Chhattisgarh, are in the final stages. The construction of the main stage, pavilions, stalls, entrance gates of various departments in the Science College ground is almost complete. Guests from the country and abroad have also reached the capital Raipur for the National Tribal Dance Festival and this process is going on.

राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में 1 से 3 नवंबर तक राष्ट्रीय जनजातीय नृत्य महोत्सव और राज्योत्सव का भव्य आयोजन किया जाना है. उद्घाटन कार्यक्रम एक नवंबर को सुबह 11 बजे होगा। उद्घाटन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मुख्य अतिथि होंगे और विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे. उसी दिन शाम सात बजे से राजकीय अलंकरण समारोह का आयोजन होगा, कार्यक्रम की मुख्य अतिथि राज्यपाल सुश्री अनुसुइया उइके होंगी और मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल अध्यक्षता करेंगे. उद्घाटन कार्यक्रम के अगले दिन 2 नवंबर को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे और संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत इसकी अध्यक्षता करेंगे. राज्योत्सव का समापन 3 नवंबर को शाम 7 बजे होगा जिसमें झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन मुख्य अतिथि होंगे और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे

The National Tribal Dance Festival and Rajyotsava are to be organized grandly from November 1 to 3 at the Science College ground in the capital Raipur. The inaugural program will be held on November 1 at 11 am. Chief Minister Bhupesh Baghel will be the chief guest in the inaugural program and Assembly Speaker Dr. Charandas Mahant will preside over the program. The state decoration ceremony will be organized on the same day from 7 o’clock in the evening.Governor Ms. Anusuiya Uikey will be the chief guest of the program and Chief Minister Mr. Bhupesh Baghel will preside. On November 2, the next day of the inaugural program, Chief Minister Bhupesh Baghel will be the chief guest of the program and Culture Minister Amarjit Bhagat will preside over it. Rajyotsava will conclude on November 3 at 7 pm in which Jharkhand Chief Minister Shri Hemant Soren will be the chief guest and Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel will preside over the program.

भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों सहित नौ देशों मोजाम्बिक, मंगोलिया, टोंगो, रूस, इंडोनेशिया, मालदीव, सर्बिया, न्यूजीलैंड और मिस्र के 1500 आदिवासी कलाकार राष्ट्रीय जनजातीय नृत्य महोत्सव में भाग लेंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार विदेशों से आदिवासी कलाकारों की टीम रायपुर पहुंच रही है.

1500 tribal artistes from nine countries Mozambique, Mongolia, Tongo, Russia, Indonesia, Maldives, Serbia, New Zealand and Egypt including all the states and union territories of India will participate in the National Tribal Dance Festival. According to the schedule, a team of tribal artists from abroad is reaching Raipur.
साइंस कॉलेज मैदान में राज्योत्सव के दौरान राज्य सरकार के विभागों के 21 स्टाल, शिल्पग्राम में 40 स्टाल, फूड जोन में 24 स्टॉल, थीम हैंगर में विभिन्न उद्योगों और पीएसयू के स्टाल, साइंस कॉलेज में विकास प्रदर्शनी में 40 व्यावसायिक स्टाल लगाए गए हैं

During Rajyotsava at Science College Ground, 21 stalls of State Government Departments, 40 stalls at Shilpgram, 24 stalls in Food Zone, stalls of various industries and PSUs in Theme Hanger, 40 commercial stalls at Science College Development Exhibition have been set up.

इस आयोजन में आने वाले सैलानियों के लिए कई आकर्षण होंगे। छत्तीसगढ़ देश और विदेश की विभिन्न जनजातियों की संस्कृति, परंपरा और लोक कला की विविधता को देखेगा। छत्तीसगढ़ शासन के विभिन्न विभागों की कल्याणकारी योजनाओं पर आधारित विकास प्रदर्शनी के माध्यम से पिछले साढ़े चार वर्षों में छत्तीसगढ़ की विकास गाथा की झांकी दिखाई जाएगी। उनके आकर्षण का केंद्र शिल्पग्राम और फूड जोन भी रहेगा।

There will be many attractions for the tourists visiting this event. Chhattisgarh will witness the diversity of culture, tradition and folk art of different tribes of the country and abroad. The tableau of the development story of Chhattisgarh in the last four and a half years will be shown through the development exhibition based on the welfare schemes of various departments of the Chhattisgarh government. Shilpgram and Food Zone will also be the center of their attraction.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button