खबर हटके

दुनिया के चौकाने वाले और अनसुलझे रहस्य….

जानिये दुनिया के सबसे अनसुलझे और रहस्य से भरे राज.......

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

तैरते पत्थरों का रहस्य (रामेश्वरम)

हिंदू पौराणिक कथाओं में कहा गया है कि श्री राम ने अपनी पत्नी सीता को रावण से बचाने के लिए श्रीलंका पहुंचने के लिए एक तैरता हुआ पुल बनाया था। इस तैरते हुए पुल को राम सेतु या आदम के पुल के नाम से जाना जाता है। यह पुल पूरी तरह से तैरते हुए पत्थरों से बना है.

लेकिन हैरानी की बात यह है कि इस क्षेत्र के आसपास मौजूद सभी पत्थरों में कुछ पत्थर सामान्य स्थिति में हैं। लेकिन जब आप इन्हें पानी में डालते हैं तो ये तैरते रहते हैं। इसका अध्ययन कई वैज्ञानिकों ने किया है। लेकिन वैज्ञानिक अभी तक इसके पीछे के रहस्य को सबके सामने नहीं ला पाए हैं।

बेलेंसिंग चट्टान (तमिलनाडु)

PHOTO – SOCIAL MEDIA

बैलेंसिंग रॉक तमिलनाडु के महाबलीपुरम में स्थित है। महाबलीपुरम में एक विशाल चट्टान की खड़ी ढलान पर एक पत्थर रखा गया है, जिसे देखने पर ऐसा लगता है कि यह पत्थर कभी भी लुढ़क सकता है। यह चट्टान 20 फीट ऊपर होने का अनुमान है। यहां के लोगों का मानना ​​है कि यह भगवान कृष्ण का मक्खन का बर्तन था, जो आसमान से गिरा था।

इसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। पर्यटक यह देखकर हैरान रह जाते हैं कि इतनी खड़ी ढलान पर यह चट्टान कैसे स्थिर रह सकती है? 1908 में ब्रिटिश सरकार ने भी इसे हटाने का प्रयास किया। लेकिन उसकी कोशिश काम नहीं आई।

अश्वत्थामा

जिसने महाभारत पढ़ा या देखा है, वह अश्वत्थामा के बारे में जरूर जानता होगा। अश्वत्थामा कौरवों और पांडवों के गुरु द्रोणाचार्य के पुत्र थे, जो महाभारत के युद्ध में कौरवों की तरफ से लड़े थे। उनकी एक गलती के कारण, भगवान कृष्ण ने उन्हें श्राप दिया कि उनकी आत्माएं दुनिया के अंत तक भटकेंगी।

आज भी यह माना जाता है कि अश्वत्थामा की आत्मा भटक रही है। हालांकि इसके लिए कोई प्रमाणित सच्चाई नहीं है, फिर भी कई लोगों ने अश्वत्थामा को कई जगहों पर देखने का दावा किया है। ऐसा है मध्य प्रदेश के बुरहानपुर शहर से 20 किमी दूर असीरगढ़ का किला जिसके अंदर भगवान शिव का मंदिर है। वहां अश्वत्थामा को देखने का दावा किया गया है।

वहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि अश्वत्थामा आज भी यहां भगवान शिव की पूजा करने आते हैं। लोगों का यह भी कहना है कि किले के अंदर एक तालाब भी है, जहां पूजा करने से पहले अश्वत्थामा स्नान करते हैं। वहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि जिसने भी अश्वत्थामा को अपनी आंखों से देखा उसकी मानसिक स्थिति हमेशा के लिए बिगड़ गई।

समुद्र के नीचे द्वारिका

भगवान कृष्ण की नगरी जहां उन्होंने अपने जीवन का अंतिम समय बिताया वह द्वारिका थी। जो गुजरात के काठियावाड़ क्षेत्र में अरब सागर के द्वीप पर स्थित है। द्वारकापुरी का अपना एक धार्मिक, पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व है। लेकिन इससे भी ज्यादा यह रहस्य से भरा है।

आज भी यहां लाखों लोग पूजा करने आते हैं, लेकिन आज जो मंदिर द्वारका में स्थित है, वह वास्तव में भगवान श्री कृष्ण का निवास द्वारका नहीं है।

ऐसा कहा जाता है कि द्वारका, जिसे श्री कृष्ण ने बसाया था, उनकी मृत्यु के बाद समुद्र में विलीन हो गया। वैज्ञानिक आज भी इस मंदिर को महाभारत काल का निर्माण नहीं मानते हैं। उनका यह भी मानना ​​है कि श्री कृष्ण का निवास द्वारका समुद्र में डूब गया होगा और शायद उसके अवशेष आज भी मौजूद होंगे।

इसी कारण पुराणों में वर्णित द्वारका के रहस्य का पता लगाने के लिए अनेक शोधकर्ताओं ने प्रयास किया। इन तथ्यों के आधार पर उन्होंने वर्ष 2005 में एक अभियान शुरू किया, जिसमें भारतीय नौसेना की मदद से समुद्र की गहराई में भगवान श्री कृष्ण के निवास द्वारका के अवशेषों की खोज शुरू की।

हालांकि समुद्र की गहराई में जाने के बाद कुछ खंडित पत्थर, लगभग 200 अन्य प्रकार के नमूने मिले, लेकिन यह तय नहीं हो सका कि यह वही शहर है जिसे भगवान कृष्ण ने बसाया था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button