धर्म
Trending

Ganesh Chaturthi 2022….

PUBLISHED BY : Vanshika Pandey

31 अगस्त से गणेशोत्सव का पर्व शुरू होने जा रहा है। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को गणेश उत्सव की शुरुआत होगी और गणपति घर-घर जाकर शुभ योग और मुहूर्त में विराजमान होंगे. अनंत चतुर्दशी तिथि को गणेश विसर्जन के साथ गणेशोत्सव का समापन होगा। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान गणेश को प्रथम पूज्य देवता माना जाता है। भगवान श्री गणेश विघ्नों का नाश करने वाले और शुभ देवता हैं। जहां नियमित रूप से भगवान गणेश की पूजा की जाती है, वहां रिद्धि-सिद्धि और शुभता का वास होता है। वास्तु दोषों के निवारण तथा भवन की सुख-शांति के लिए देवताओं में प्रथम पूज्य गणेश जी को महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है।



बाएं सूंड वाले गणेश


घर में बैठे और सूंड को बाईं ओर मोड़कर गणेश जी को विराजमान करना चाहिए। दाहिने हाथ की ओर घुमावदार सूंड वाले गणेश जिद्दी हैं और उनकी साधना-पूजा कठिन है। वह देर से आने वाले भक्तों पर प्रसन्न होते हैं। इन्हें मंदिर में स्थापित किया जाता है।








सुख-समृद्धि प्रदान करेंगे ये गणेश-


सभी शुभ की कामना करने वालों के लिए सिंदूर रंग के गणपति की पूजा करना शुभ होता है। सुख, शांति और समृद्धि की कामना करने वालों को सफेद रंग की विनायक की मूर्ति लानी चाहिए। साथ ही उनकी स्थायी तस्वीर भी घर में रखनी चाहिए। घर में पूजा के लिए गणेश जी की शयन या बैठने की मुद्रा हो तो अधिक शुभ होता है। यदि पूजा कला या अन्य शिक्षा के उद्देश्य से करनी हो तो नाचते हुए गणेश जी की मूर्ति या चित्र की पूजा करना लाभकारी होता है।

काम का ध्यान रखेंगे-


यदि आप कार्यस्थल पर गणेश जी की मूर्ति रख रहे हैं तो गणेश जी की मूर्ति को खड़ा कर दें। इससे कार्यक्षेत्र में काम करने का जोश और जोश हमेशा बना रहता है। ध्यान रहे कि खड़े रहते हुए श्री गणेश जी के दोनों पैर जमीन को छूएं, इससे कार्य में स्थिरता आती है। वक्रतुंडा की छवियों या छवियों को कार्यक्षेत्र के किसी भी हिस्से में रखा जा सकता है, लेकिन यह ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी स्थिति में उनका चेहरा दक्षिण दिशा या दक्षिण-पूर्व कोण में नहीं होना चाहिए।

वास्तु दोष के लिए-


यदि एकदंत की मूर्ति या चित्र घर के मुख्य द्वार पर स्थापित किया जाता है, तो उसके दूसरी ओर दोनों गणेशजी की पीठ एक ही स्थान पर मिलनी चाहिए, इस प्रकार दूसरी मूर्ति या चित्र लगाकर, वास्तु दोष दूर होते हैं।


अशुभ ग्रहों की शांति के लिए-


स्वस्तिक को गणेश का एक रूप माना जाता है। वास्तु शास्त्र भी दोषों की रोकथाम के लिए स्वस्तिक को उपयोगी मानता है। वास्तु दोषों को दूर करने के लिए स्वास्तिक एक उत्तम मंत्र है और यह ग्रह शांति में लाभकारी है। भवन के जिस भाग में वास्तु दोष हो उस स्थान पर घी मिश्रित सिंदूर से दीवार पर स्वस्तिक बनाने से वास्तु दोष का प्रभाव कम हो जाता है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button