राष्ट्रीयव्यापार
Trending

रतन टाटा ने बुजुर्गों के लिए स्टार्टअप में किया निवेश

रतन टाटा ने बुजुर्गों के लिए एक स्टार्टअप में किया निवेश, अनोखी सेवा उपलब्ध कराती है यह कंपनी

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

कारोबारी जगत के मजबूत स्तंभ रतन टाटा ने मंगलवार, 16 अगस्त को एक स्टार्टअप गुडफेलो में निवेश की घोषणा की है। हालांकि, निवेश की राशि का खुलासा नहीं किया गया है। यह स्टार्टअप बुजुर्गों को सेवा के रूप में सहयोग प्रदान करता है। इस स्टार्टअप की स्थापना शांतनु नायडू ने की है। रतन टाटा टाटा समूह से सेवानिवृत्त होने के बाद से स्टार्टअप में सक्रिय रूप से निवेश कर रहे हैं और अब तक 50 से अधिक कंपनियों में निवेश कर चुके हैं।

कौन हैं नायडू?

शांतनु नायडू तीस साल के हैं और उन्होंने कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है। वह टाटा के कार्यालय में महाप्रबंधक हैं और 2018 से उनकी सहायता कर रहे हैं। नायडू ने गुडफेलो सहित चार कंपनियां शुरू की हैं, जिनमें से एक पालतू जानवरों के लिए है। रतन टाटा ने गुडफेलो के लिए नायडू की तारीफ की है। 84 वर्षीय टाटा ने नायडू के विचार की सराहना करते हुए कहा कि जब तक आप वास्तव में बूढ़े नहीं होते, किसी को भी बूढ़ा होने का मन नहीं करता। उन्होंने यह भी कहा कि एक अच्छे स्वभाव वाला साथी मिलना भी एक चुनौती है।

कैसे काम करती है Goodfellows

टाटा को बॉस, मेंटर और दोस्त बताते हुए नायडू ने कहा कि दुनिया में 15 मिलियन बुजुर्ग हैं, जो अकेले हैं, जो गुडफेलो के लिए एक अवसर है। इन बुजुर्गों के साथी के रूप में, गुडफेलो उन युवा स्नातकों को काम पर रखता है जिनके पास संवेदनशीलता और भावनात्मक बुद्धिमत्ता की उचित समझ है। नायडू का कहना है कि सही साथी के चयन के लिए मनोवैज्ञानिक की मदद ली जाएगी।

उनका काम बुजुर्गों के साथ रहना, उनके साथ बातचीत करना है। उन्हें बुजुर्गों की जरूरत के हिसाब से काम करना पड़ता है जैसे उनके साथ कैरम खेलना, उनके लिए अखबार पढ़ना या उनके साथ झपकी लेना। एक साथी सप्ताह में तीन बार एक बुजुर्ग ग्राहक से मिलने जाता था और एक मुलाकात में उनके साथ चार घंटे बिताता था। फीस की बात करें तो एक महीने की फ्री सर्विस के बाद बेस सब्सक्रिप्शन के तौर पर एक महीने के लिए पांच हजार रुपये चार्ज किए जाएंगे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button