राष्ट्रीय
Trending

बगावत से उद्धव ठाकरे हुए परेशान

PUBLISHED BY : Vanshika Pandey

महाराष्ट्र की सियासत में सत्ता में फेरबदल हो गया है. अब एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री बन गए हैं। जो कभी शिवसेना के मजबूत नेता और ठाकरे परिवार के वफादार थे। हालांकि, उन्होंने पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी और 40 विधायकों सहित अपना एक अलग गुट बना लिया। यह कहानी अब पुरानी हो चुकी है। लेकिन विद्रोह के उस दौर के किस्से आज भी एक-एक कर सामने आ रहे हैं. सूत्रों की माने तो ठाकरे को तब तक लगने लगा था कि अब सरकार बचाना बहुत मुश्किल है. फिर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से भी बात करने की कोशिश की. हालांकि, उन्हें दोनों नेताओं की ओर से कोई जवाब नहीं मिला।

इस दिन विद्रोह


21 जून 2022 को साफ हो गया कि एकनाथ शिंदे करीब 26 विधायकों को लेकर मुंबई से सूरत के लिए निकले थे। सूत्रों की माने तो पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मोर्चा संभाला और बाकी विधायकों को अपने पक्ष में करने की कोशिश करने लगे. लेकिन उनके प्रयास तब विफल हो गए जब सूरत के विधायकों को गुवाहाटी भेज दिया गया। इतना ही नहीं, उद्धव ठाकरे गुट के कई विधायक खुद उनसे अलग हो गए और गुवाहाटी के लिए रवाना हो गए। इसके बाद उद्धव ठाकरे काफी घबरा गए थे।

फडणवीस को उद्धव का हालात


तेजी से बिगड़ते हालात से निपटने के लिए उद्धव ठाकरे ने एक करीबी और पूर्व कैबिनेट मंत्री के जरिए देवेंद्र फडणवीस से भी संपर्क किया. सूत्र बताते हैं कि उद्धव ठाकरे और देवेंद्र फडणवीस के बीच भी बातचीत हुई। दरअसल उद्धव ठाकरे को इस बात का अहसास हो गया था कि अब उनके लिए विधायकों को रोकना नामुमकिन है और पार्टी में बड़ा बगावत होना तय है.

उस दौरान उद्धव ने देवेंद्र फडणवीस को प्रपोज किया था कि बीजेपी मेरे साथ डील करे ताकि एकनाथ शिंदे को सपोर्ट करने के बजाय पूरी पार्टी उद्धव के साथ आ सके. हालांकि फडणवीस ने तब यह कहते हुए इनकार किया था कि मामला अब हाथ से निकल गया है। पिछले एक साल में फडणवीस और उद्धव के बीच यह पहली आमने-सामने की बातचीत थी

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button