अन्य खबरेंधर्म

बनारस के अलावा यहां है बाबा विश्वनाथ का मंदिर, सावन में दर्शन मात्र से मनोकामना पूरी होती है।

आकाश मिश्रा ✍️

रायपुर। विश्व प्रसिद्ध बाबा भोलेनाथ की नगरी काशी विश्वनाथ के बारे में कौन नहीं जानता। बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक यहाँ स्थित है। ऐसा ही छत्तीसगढ़ का काशी विश्वनाथ मंदिर है जो लोगों की गहरी आस्था से जुड़ा है। राजधानी रायपुर से 19 किलोमीटर दूर आरंग के नवागांव स्थित काशी शहर में हर साल सावन के महीने में बाबा का विशेष श्रृंगार किया जाता है. यहां आकर आपको ऐसा लगेगा जैसे आप काशी की पावन भूमि बाबा भोलेनाथ के दर्शन करने आए हैं।
बाबा विश्वनाथ के दर्शन मात्र से सारे दुख दूर हो जाते हैं
सावन के महीने की शुरुआत के साथ ही कई जगहों से भक्त भगवान की पूजा करने आते हैं और सुख-समृद्धि की कामना करते हैं। वे जलाभिषेक, दुग्धाभिषेक और रुद्राभिषेक करके अपनी मनोकामना पूरी करते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान विश्वनाथ के दर्शन मात्र से सभी प्रकार के दुख दूर हो जाते हैं। पुरातात्विक महत्व के अनुसार भगवान विश्वनाथ का यह मंदिर राजाओं और सम्राटों के समय ईटों से बना है।

आज कमरे में दिन रात लौ जलती रहती है

यह अवशेष उसी स्थान पर मिला है जहां भगवान शिवलिंग स्थापित है। मंदिर के सेवक बालमुकुंद अग्रवाल का कहना है कि आरंग के सीता उद्यान में 400 साल पुराने इस मंदिर के अवशेष पुरातनता के साक्षी हैं। एक बार की बात है, ऋषि और संत इस स्थान पर आते थे और तंत्र-मंत्र करते थे। यह स्थान सिद्धि प्राप्ति का केन्द्र बिन्दु था। 345 साल पहले यहां के मंदिर में तीन साधुओं ने समाधि ली थी। गर्भगृह के पास एक गुफा जैसे कमरे में आज भी दिन-रात ज्वाला जलती रहती है। एक समाधि बगीचे में है और दूसरी समाधि तालाब के किनारे है।

50 स्तम्भ, 6 चक्र सौन्दर्य को बढ़ाते हैं

अग्रवाल का कहना है कि 50 स्तंभ 6 चक्र सुंदर हैं। मंदिर के गर्भगृह में रुद्र के अवतार भैरव के साथ भगवान शिव और पार्वती विराजमान हैं। मंदिर में प्रवेश करने वाले शिवलिंग के ऊपर गणेश जी की एक सुंदर मूर्ति दिखाई देती है।

मंदिर से भैरव बाबा का अभिषेक

भक्तों द्वारा भैरव बाबा का प्रतिदिन शराब से अभिषेक किया जाता है। भगवान शिव की पूजा सुबह 5 बजे से शुरू होती है, शाम को वैदिक रीति से अभिषेक किया जाता है। सावन और महाशिव रात्री पर्व के दौरान यहां भक्तों की भीड़ बढ़ जाती है। वर्ष 2015 में मंदिर के गर्भगृह के सामने 1008 शिवलिंग की स्थापना की गई है। बालमुकुंद अग्रवाल पिछले 16 वर्षों से अपना आवास छोड़कर भगवान की सेवा में लगे हुए हैं।

राख में की जाती है आरती

भगवान विश्वनाथ के गर्भगृह के सामने वर्ष में एक बार विश्वनाथ के विशेष दिन पर यज्ञकुंड में राख के साथ कुएं की पूजा की जाती थी और राख से पूजा की जाती थी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button