अन्य खबरें

एक अनोखी आस्था ऐसी भी, जानिये शब्बीर की कहानी..

सिर पर टोपी और लंबी दाढ़ी...व्रत वालों को अपनी दुकान पर फ्री में जूस पिलाते हैं शब्बीर

( PUBLISHED BY – SEEMA UPADHYAY )

शारदीय नवरात्रि और दशहरा को लेकर देश और प्रदेश में हर कोई अपने-अपने तरीके से मां की सेवा में लगा हुआ है. वैसे तो आमतौर पर लोग व्रत रखते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो बिना व्रत रखे, मां के प्रति श्रद्धा रखते हुए लोगों की सेवा करने से संतुष्टि प्राप्त करते हैं।

AMU की मौलाना आजाद लाइब्रेरी की कैंटीन के पास जूस कार्नर चलाने वाले मोहम्मद शब्बीर भी उन्हीं लोगों में से एक हैं। दरअसल, हर दिन कई छात्र पुस्तकालय में पढ़ने के लिए आते हैं। इसमें कुछ ऐसे भी होते हैं, जो मां के लिए व्रत रखते हैं। ऐसे में जब इन छात्रों को जूस मिलता है तो मोहम्मद शब्बीर एक गिलास थर्मोकोल में जूस निकाल कर पी जाते हैं. सबसे खास बात यह है कि शब्बीर रोजा रखने वाले छात्रों से जूस के पैसे नहीं लेते हैं।

32 साल से चला रहे हैं जूस कॉर्नर

मोहम्मद शब्बीर का कहना है कि वह 32 साल से जूस कार्नर चला रहे हैं। उनके लिए सभी धर्म मायने रखते हैं। ऐसे में व्रत रखने वाले छात्रों की सेवा करने से उन्हें काफी राहत मिलती है. वे अपने दिन की शुरुआत नमाज से करते हैं। फिर सुबह 8 बजे तक जूस कॉर्नर में पहुंच जाते हैं और देर शाम तक जूस बेचते हैं. यहां मौसम के अनुसार फलों का रस मिलता है। वेरायटी की बात करें तो वेजिटेबल, फ्रूट शेक, सीजनल, तरबूज, पाइनएप्पल, मैंगो शेक, मिक्स फ्रूट जूस आदि हैं। मौजूदा हालात में स्टूडेंट्स ज्यादा से ज्यादा मिक्स जूस और सीजनल जूस की मांग करते हैं। इसके लिए छात्र दिन भर कतार में लगे रहते हैं। छात्र भी यहां आते हैं और परिसर में सभी मुद्दों पर चर्चा करते हैं।

क्यों पिलाते हैं फ्री में जूस

मोहम्मद शब्बीर कहते हैं कि यूनिवर्सिटी में मेरी पहचान छात्रों की वजह से बनी हुई है. मैं उन्हें हिंदू-मुसलमान की नजर से नहीं देखता। मेरे लिए तो सब पढ़ाई है। मेरी अंतरात्मा मुझे उन हिंदू छात्रों से पैसे नहीं लेने देती जो नवरात्रि के दौरान उपवास रखते हैं। मैं एक दिन में 15 से 20 हिंदू छात्रों को जूस देता हूं, इससे बहुत खुशी मिलती है। इतना ही नहीं व्रत न करने वाले विद्यार्थी के पास धन न होने पर भी वह रस देता है। वहीं छात्र शब्बीर से पैसे भी उधार लेते हैं और कहते हैं कि जब नौकरी मिलेगी तो लौटा देंगे। शब्बीर का यही स्वभाव लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button