छत्तीसगढ़
Trending

छत्तीसगढ़ के कुछ खूबसूरत नज़ारे …

PUBLISHED BY : Vanshika Pandey

छत्तीसगढ़ की पहचान और बस्तर का नाम न लेने की बात करना संभव नहीं है. बस्तर… वैसे तो बस्तर को जानने वालों के लिए इसका नाम ही काफी है। पहाड़ों, जंगलों, झरनों और नदियों से घिरे इस क्षेत्र में अपने चरम पर कई रहस्य हैं। यहां के आदिवासियों की संस्कृति, सभ्यता, रहन-सहन का अंदाज अपने आप में अनोखा है, लेकिन जो लोग बस्तर को नहीं जानते उन्हें यहां सिर्फ लाल आतंक यानी नक्सलियों का ही साया दिखाई देता है. प्रकृति की असली सुंदरता को समेटे बस्तर में जंगलों के बीच में इतने सारे झरने हैं, जहां आज भी पर्यटक नहीं पहुंच पाए हैं।

बस्तर के रहस्य

समय बीतने के साथ बस्तर के वे रहस्य भी खुलते जा रहे हैं, जो इतने दिलचस्प और दिलचस्प हैं कि इसे तलाशने के लिए इसे दूसरे राज्यों का पथिक कहें या रमता जोगी यहां पहुंच जाएं। वैसे तो बस्तर को जानने और समझने के लिए बहुत कुछ है, लेकिन शुरुआत हमेशा चित्रकोट जलप्रपात से ही होती है। चित्रकोट जलप्रपात बस्तर के 16 श्रृंगारों में से एक है। चित्रकोट जलप्रपात, 90 फीट की ऊंचाई से गिरता यह जलप्रपात इंद्रावती नदी की सुंदरता में चार चांद लगा देता है। इस जलप्रपात को पूरे देश में नियाग्रा जलप्रपात के नाम से भी जाना जाता है। यहां पहुंचने के लिए सबसे पहले आपको जगदलपुर पहुंचना होगा। यहां से महज 40 किलोमीटर की दूरी पर आपको प्राकृतिक सुंदरता का यह अनोखा और खूबसूरत संगम देखने को मिलेगा। इस बीच सफर में आप खुद को यह कहने से नहीं रोक पाएंगे कि प्रकृति ने यहां हर कदम बड़ी खूबसूरती और फुरसत के साथ बनाया है। यहां घूमने का सबसे अच्छा समय मानसून के दौरान होता है। क्योंकि इन दिनों इंद्रावती नदी अपने चरम पर है। चित्रकूट जलप्रपात देश का सबसे चौड़ा जलप्रपात है। वर्षा ऋतु में इसकी चौड़ाई 150 मीटर होती है। रात के सन्नाटे में आपको 3 से 4 किलोमीटर दूर भी झरने की आवाज सुनाई देगी। मानो पानी की एक-एक बूंद चीख रही हो और चित्रकूट से गिरने की महिमा का गीत गा रही हो।

चित्रकोट जलप्रपात

वैसे तो चित्रकोट जलप्रपात हर मौसम में दिखाई देता है, लेकिन बारिश के दिनों में इसे देखना और भी रोमांचकारी अनुभव होता है। बारिश में ऊंचाई से एक विशाल जलाशय की गर्जना रोमांच और सिहरन पैदा करती है। जुलाई-अक्टूबर के बीच का समय पर्यटकों के लिए यहां आने का सबसे अच्छा समय है। चित्रकोट जलप्रपात के चारों ओर घने जंगल हैं, जो इसकी प्राकृतिक सुंदरता को और बढ़ाते हैं। आप रात के अंधेरे में भी झरने का रोमांच ले सकते हैं, क्योंकि यह जगह रोशनी से अच्छी तरह सुसज्जित है। अलग-अलग मौकों पर इस झरने से कम से कम तीन और अधिकतम सात धाराएँ गिरती हैं। झरने के किनारे एक विशाल शिवलिंग और महादेव का मंदिर भी है। जिसे हाल ही में बनाया गया है, लेकिन अगर आप झरने के नीचे जाएंगे तो आपको सैकड़ों छोटे-छोटे शिवलिंग मिल जाएंगे। इनमें से कई शिवलिंग प्राचीन काल के भी माने जाते हैं, जिन पर झरने का पानी सीधे गिरता है, मानो भगवान शिव की पूजा की जा रही हो। चित्रकोट फॉल्स की खूबसूरती को करीब से देखने के लिए यहां बोटिंग का मजा भी लिया जा सकता है। नदी में उतरकर 90 फीट की ऊंचाई से गिरती विशाल धारा को देखना और महसूस करना थोड़ा डरावना है, लेकिन उत्साह से भरा है।

बस्तर का तीरथगढ़ जलप्रपात

बस्तर में झरनों की कोई कमी नहीं है। यहां आपको लगभग हर 60 से 70 किलोमीटर पर झरने मिल जाएंगे, लेकिन उनमें से कई ऐसे हैं कि आज भी कोई पर्यटक नहीं पहुंच पाया है। बस्तर का तीरथगढ़ जलप्रपात भी देश भर में बहुत प्रसिद्ध है। यहां है पहाड़, पानी और जंगल का ऐसा अनोखा संगम जहां पहुंचने से हर प्रकृति प्रेमी खुद को रोक नहीं पाता। बस्तर पहुंचने वाला हर पर्यटक चित्रकोट के साथ तीरथगढ़ जलप्रपात जरूर पहुंचता है। इसे अगर जल प्रपात भी कहा जाए तो गलत नहीं होगा। चित्रकोट से इसकी दूरी करीब 57 किलोमीटर है। तीरथगढ़ एक ऐसा जलप्रपात है जहां दो नदियों का संगम भी होता है। मुंगा और बहार की दो सहायक नदियाँ पर्यटकों के लिए एक मनोरम दृश्य बनाने के लिए यहाँ विलीन हो जाती हैं।

झरनों की खूबसूरती

तीरथगढ़ में वास्तव में एक नहीं, बल्कि दो झरने हैं, जो पहाड़ों और घने जंगलों के बीच के इलाके में एक के बाद एक गिरते हैं। दिलचस्प बात यह है कि वे यहां के दोनों झरनों की खूबसूरती को बेहद करीब से देख सकते हैं। पेड़ों के बीच पहाड़ों पर बनी सीढ़ियों की मदद से आप गहरी खाई में भी उतर सकते हैं, जहां से मुंगा-बहार नदी का सफर शुरू होता है। तीरथगढ़ जलप्रपात भारत के सबसे ऊंचे जलप्रपातों में गिना जाता है। इसकी ऊंचाई करीब 300 फीट है। यहां प्रकृति की सुंदरता हर रूप में मौजूद है। जहां आप बस पर्यावरण में खो जाना चाहते हैं। यहां के आदिवासियों का जीवन बिल्कुल भी आसान नहीं है, लेकिन जब वे बस्तर आते हैं तो उन्हें बस्तरिया बनने का मन करता है। शांत वातावरण में पक्षियों की चहचहाहट, 300 फीट की ऊंचाई से गिरता झरना, सुंदरता की मिसाल पेश करते हरे-भरे पेड़ और गीली पत्तियों से गिरती बारिश की बूंदें… ये सब आपको बस्तर में एक साथ मिल जाएगा। तीरथगढ़ जलप्रपात पर मिलेंगे।

चित्रधारा जलप्रपात भी एक खूबसूरत पर्यटन स्थल

जगदलपुर के पास चित्रकोट और तीरथगढ़ के अलावा चित्रधारा जलप्रपात भी एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है। जो जगदलपुर से महज 19 किमी दूर पोटनार गांव में स्थित है। इस झरने की ऊंचाई करीब 50 फीट और चौड़ाई 100 मीटर है। इसी में खेतों का पानी आता है, जो एक नाले का रूप धारण कर एक बड़ी खाई में गिरते हुए जलप्रपात का रूप ले लेता है। इसे मौसमी जलप्रपात भी कहा जा सकता है। बारिश के मौसम में ही आपको यहां झरने का विहंगम दृश्य देखने को मिलेगा। बाहरी पर्यटक आमतौर पर बारिश के मौसम में ही यहां पहुंचते हैं। यहां कई अलग-अलग हिस्सों से पत्थरों के ऊपर से गिरता पानी बेहद खूबसूरत नजर आता है। आसपास की हरियाली भी इस झरने की खूबसूरती में चार चांद लगा देती है। पर्यटकों के लिए झरने के चारों ओर एक वॉच टावर बनाया गया है, जहां से कोई भी झरने की सुंदरता की प्रशंसा कर सकता है। झरने के पास ही भगवान शिव का एक मंदिर भी है, जहां पर्यटक अपनी यात्रा को सफल बनाने के लिए शुभकामनाएं लेकर आते हैं।

हाट-बाजार

बस्तर के झरने जितने खूबसूरत हैं… उतने ही खूबसूरत यहां के हाट-बाजार भी हैं। जहां आदिवासियों की कला और संस्कृति की छटा देखने को मिलती है। बस्तर के आदिवासी पारंपरिक कला-कौशल भारत की जनजातीय कलाओं में बहुत प्रसिद्ध हैं। बस्तर अपनी अनूठी कलाकृतियों के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। बस्तर के आदिवासी समुदाय इस दुर्लभ कला को पीढ़ी दर पीढ़ी संरक्षित करते रहे हैं, लेकिन प्रचार-प्रसार के अभाव में यह उनके कुटिया से साप्ताहिक हाट बाजारों तक ही सीमित है। बस्तर की कौशल कला को मुख्य रूप से काष्ठ कला, बांस कला, मृदा कला और धातु कला में विभाजित किया जा सकता है। लकड़ी की कला में मुख्य रूप से लकड़ी से बनी वस्तुओं का समावेश होता है। लकड़ी को तराश कर आदिवासी जानवरों, देवी-देवताओं और सजावट की कलाकृतियां बनाते हैं, जिन्हें वे अपने जीवन यापन के लिए बाजार में बेचते हैं। खास बात यह है कि इसे बनाने में वे किसी मशीन का इस्तेमाल नहीं करते हैं। बाँस कला में बांसुरी, बाँस की कुर्सियाँ, मेज, टोकरियाँ और चटाइयाँ जैसी घरेलू साज-सज्जा भी बनाई जाती है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button