अन्य खबरें

क्या है लक्ष्मणपुर से लखनऊ की कहानी ?

PUBLISHED BY : Vanshika Pandey

स्थानीय किंवदंती के अनुसार, इस शहर का प्राचीन नाम ‘लक्ष्मणपुर’ या ‘लक्ष्मणावती’ था और इसकी स्थापना श्री रामचंद्र जी के पुत्र लक्ष्मण ने की थी। जो समय के साथ बदल गया और लखनऊ के नाम से जाना जाने लगा। श्री राम की राजधानी अयोध्या भी यहां से महज 80 मील की दूरी पर स्थित है। शहर के पुराने हिस्से में एक ऊंची मीनार है, जिसे आज भी ‘लक्ष्मण टीला’ कहा जाता है। यह प्राचीन कोसल साम्राज्य का हिस्सा था। यह भगवान राम की विरासत थी, जिसे उन्होंने अपने भाई लक्ष्मण को समर्पित किया था।

एक अन्य किंवदंती के अनुसार, शहर का नाम लखन किले के मुख्य कलाकार लखन अहीर के नाम पर रखा गया था। नैमिषारण्य मंदिर शहर से 10 किमी की दूरी पर स्थित है। पुराणों में इसे बहुत ऊंचा स्थान बताया गया है। यहीं पर ऋषि सूतजी ने शौनकड़ी ऋषियों को पुराणों का वर्णन दिया था।

वर्तमान लखनऊ:

लखनऊ के वर्तमान स्वरूप की स्थापना नवाब आसफ-उद-दौला ने 1775 ई. में की थी। विशाल गंगा के मैदान के केंद्र में स्थित, लखनऊ शहर कई ग्रामीण कस्बों और गांवों से घिरा हुआ है, जैसे अमराई शहर, मलिहाबाद, ऐतिहासिक काकोरी, मोहन लाल गंज, गोसाईंगंज, चिंचट और इटौजा। इस शहर के पूर्व में बाराबंकी जिला है, पश्चिम में उन्नाव जिला है और दक्षिण में रायबरेली जिला है। इसके उत्तरी हिस्से में सीतापुर और हरदोई जिले हैं। गोमती नदी शहर के मध्य से निकलती है और लखनऊ को त्रास गोमती और सीस गोमती क्षेत्रों में विभाजित करती है।

1902 में, उत्तर पश्चिम प्रांत का नाम बदलकर आगरा और अवध के संयुक्त प्रांत कर दिया गया। आम बोलचाल में इसे संयुक्त प्रांत या यू.पी. कहा जाता है। वह कहाँ चला गया। आजादी के बाद 12 जनवरी 1950 को इस क्षेत्र का नाम बदलकर उत्तर प्रदेश कर दिया गया और लखनऊ इसकी राजधानी बना। इस प्रकार यह अपने पूर्व संक्षिप्त नाम यू.पी. से जुड़ा रहा।

भारत का सबसे ऊंचा घंटाघर:

लखनऊ रेजीडेंसी के खंडहर ब्रिटिश शासन की स्पष्ट तस्वीर दिखाते हैं। यह निवास 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान ईस्ट इंडिया कंपनी की एजेंट की इमारत थी। यह ऐतिहासिक इमारत हजरतगंज क्षेत्र में राज्यपाल के निवास के पास है। लखनऊ का घंटाघर भारत का सबसे ऊंचा घंटाघर है।

धार्मिक सद्भाव:

जहां होली, दीपावली, दुर्गा पूजा और दशहरा जैसे हिंदू त्योहार और कई अन्य त्योहार उल्लास के साथ मनाए जाते हैं, वहीं ईद और बारावफात और मुहर्रम भी फीके नहीं पड़ते। साम्प्रदायिक सौहार्द यहाँ की विशेषता है। कई मुसलमान हैं जो दशहरे पर रावण का पुतला बनाते हैं और कई हिंदू शिल्पकार जो ताजिया बनाते हैं। मुसलमानों से जुड़े कई स्थान हैं जैसे छोटा और बड़ा इमामबाड़ा और कई अन्य खूबसूरत मस्जिदें।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button