Uncategorizedधर्म

आस्था और भक्ति का संगम है कांवड़ यात्रा

आकाश मिश्रा ✍️

अध्यात्म और भक्ति एक व्यवस्थित जीवन के दो स्तंभ हैं। इनकी शरण लेने से जीव को सही दिशा का ज्ञान होता है। अँधेरे में भटकती जिंदगी को रोशनी की किरण मिलती है। हर तरफ से निराश जीव अपने जीवन मूल्यों को विकसित करने के लिए ईश्वर की कृपा की आशा करते हैं।

वैसे भी भक्ति की शक्ति को नकारा नहीं जा सकता। भगवान के नाम का समर्थन जीवन को मोक्ष देता है। भगवान की भक्ति का द्वार सभी के लिए खुला है और यही भक्ति संतोष, शांति और ठहराव को जन्म देती है। मानव जीवन की प्रत्येक गतिविधि उस परमपिता की शरण चाहती है। जो लोग अध्यात्म के मार्ग पर उस ईश्वर पर भरोसा करते हैं, वे स्वयं को सभी कष्टों से मुक्त मानते हैं। हिंदू संस्कृति में साल भर त्योहारों की एक श्रृंखला होती है। सभी अपने-अपने इष्ट की पूजा में पूरे मन से लगे हुए हैं।

सावन का महीना भगवान शंकर को बहुत प्रिय होता है। सावन जो बूंदाबांदी का महीना है। यह मुस्कुराते हुए प्रकृति और महादेव की भक्ति का महीना है। सावन में भक्त भगवान शंकर की पूजा करते हैं। वे पूरी भक्ति और भक्ति के साथ भगवान शिव को समर्पित रहते हैं। असंख्य भावों को मन में धारण करके वे कांवर लाते हैं। सावन के महीने में भगवान शिव के ज्योतिर्लिंग को कंधे पर कंवर लेकर जल चढ़ाने की परंपरा को कांवर यात्रा कहा जाता है।

हालांकि भगवान शिव हमेशा उनकी मासूमियत से प्रसन्न हुए हैं, वे भक्तों को वरदान देते रहे हैं, लेकिन वे भक्तों की भावनाओं को सहर्ष स्वीकार करते हैं, उनके द्वारा सावन के सुखद महीने में किया गया अभिषेक। ऐसी है भक्तों की आस्था। वैदिक धर्म के मानने वाले अपनी रुचि के अनुसार भगवान की जयंती, विवाह आदि का उत्सव मनाकर उस ईश्वर की निकटता का अनुभव करके स्वयं आनंदित होते हैं। भक्ति, यात्रा, पूजा, कीर्तन, हवन आदि उनके दैनिक जीवन का हिस्सा हैं।

सावन के महीने में आने वाली कांवड़ यात्रा भक्तों के जोश का अनूठा, अनूठा पर्व है. कांवड़ यात्रा सिर्फ एक यात्रा नहीं है बल्कि भक्तों के अपार धैर्य, प्रेम और समर्पण का संगम है। कांवड़ियों को जहां भी देखा जाता है, वहां भक्ति ही प्रकट होती है। उनका लक्ष्य भक्ति के रंग में डूब जाना, हृदय में जोश के साथ कई किलोमीटर चलना, भगवान के दर्शन के लिए कई किलोमीटर चलना, पूरे विश्वास के साथ गंगाजल को मंदिर में ले जाना और अपने इष्ट को समर्पित करना है।

भोले बाबा की भक्ति में कांवड़िये गर्मी, धूप, बारिश और प्यास सहकर भी गंगाजल पहुंचते हैं। पैरों में छालों की चिंता किए बगैर वह गंगा के दर्शन कर पानी लेकर लौट जाते हैं। जिन रास्तों से कांवरिया गुजरते हैं। वहां ऐसा लगता है जैसे गंगा की एक सतत धारा केसर का रूप लेकर बह रही हो। भगवा वस्त्र धारण करना, अध्यात्म के पथ पर अग्रसर कांवड़ियां सभी की श्रद्धा के प्रतीक हैं। भक्त भोले बाबा को हर कांवड़िया में देखते हैं। भक्त बम भोले का जाप करते हुए भक्ति मार्ग में दिन-रात चलते रहते हैं। भोले शंकर पर उसकी आस्था है कि वह सावन के महीने की रिमझिम बरसात में भीग जाता है, तपती दोपहरी में झुलस जाता है, कंधे पर कंवर लेकर जीवन का आनंद लेता है और गंगा जल लेने हरिद्वार जाता है।

भक्त भोले बाबा को अपने मन में आत्मसात कर उन्हें अपने-अपने तरीके से प्रसन्न करने की ठान लेते हैं। बुजुर्ग, जवान, बच्चे यहां तक ​​कि महिलाएं भी कांवड़ लेकर गंगाजल लेने जाती हैं। उनमें से कुछ सख्त उपवास करके दिन-रात चलते हैं। कोई नंगे पांव जाता है तो कोई कंधे से कंवर भी नहीं उतारता।

कांवड़ का महत्व सदियों पुराना है। श्रवण कुमार ने कंवर में अपने अंधे माता-पिता को कंधे पर बिठाकर तीर्थयात्रा की थी। उनकी माता-पिता भक्ति का कोई मुकाबला नहीं है। लेकिन आज भी लोग कांवड़ लेकर भक्ति मार्ग पर निकल पड़ते हैं। बदलते समय के साथ आज के युवाओं का उत्साह और जोश आधुनिकता के रंग में रंग गया है।

अब कांवड़ को भव्य और आकर्षक बनाने के लिए सुंदर सजावट सामग्री का उपयोग किया जा रहा है। आकर्षक और मनमोहक कांवर दर्शकों को विस्मित कर देते हैं। इसके साथ ही गीत-संगीत, नृत्य का चलन भी बढ़ा है। भक्ति गीतों के साथ आगे बढ़ते हुए, कांवरिया भक्ति गीतों की धुन पर नाचते हुए अपनी थकान भूल जाते हैं, भक्ति में डूब जाते हैं। कांवर को पहले लाना मान्यता का प्रतीक था। अपनी मन्नत पूरी होने पर वह कांवड़ चढ़ाते थे या कोई मन्नत मांगने के लिए कांवर लेता था। आजकल कांवड़ धारण करना भक्ति के साथ-साथ प्रतिस्पर्धा का भी रूप बन गया है। अपने कांवर को सबसे खूबसूरत होने दें और हर किसी के मन में पहले आने पर इनाम पाने का जुनून होता है।

घर के बड़े-बुजुर्गों ने कांवड़ को सिर्फ शौक के लिए नहीं भेजा। उदय ने बहुत जिद की और दोस्तों के साथ जाकर कंवर को ले आया। उनके पास कांवर लाने की कोई परंपरा नहीं थी। उसी वर्ष उदय के पिता की मृत्यु हो गई, परिवार के सदस्यों ने उसे कंवर लेने के लिए नहीं भेजा। वे भ्रमित हो गए। कंवर जीवन मूल्यों की खेती के लिए हैं। यह बहुत कठिन व्रत है। देखा-देखी कांवर लाने की जिद भी परिवार को झूठे अंधविश्वास में जकड़ लेती है।

आजकल भक्तों की असीमित संख्या के कारण कांवड़ यात्रा प्रशासन के लिए एक चुनौती बन जाती है क्योंकि प्रत्येक भक्त की सुरक्षा की जिम्मेदारी प्रशासन पर होती है। जिनके लिए किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए कड़े इंतजाम किए गए हैं। सावन के महीने में कांवड़ यात्रा की व्यवस्था में पूरा प्रशासन सक्रिय हो जाता है. लोगों में कांवड़ियों की सेवा की भावना भी होती है। जो भक्त स्वयं कांवड़ नहीं लाते, वे कांवड़ियों की सेवा करके स्वयं को कृतज्ञता का कार्य समझते हैं। विभिन्न स्थानों पर शिविर आयोजित किए जाते हैं जिनमें भक्त आराम कर सकते हैं। सभी धर्मों के लोग उनसे जो भी सेवा प्राप्त कर सकते हैं, इसी भावना से आगे आते हैं और भोजन, फल, शर्बत, दवाओं आदि की व्यवस्था करके कांवड़ियों की भूख, प्यास और स्वास्थ्य का ख्याल रखते हैं।

सावन के पूरे महीने भक्ति में डूबे भक्त अपने आप को बुराइयों और अनैतिक गतिविधियों से दूर रखते हैं। शिवालय में भक्तों की श्रृंखला शिव की महिमा और भजनों के जाप में उनके जीवन का सार ढूंढती है। बीते सालों में कोरोना महामारी ने भक्तों की ये खुशी छीन ली, लेकिन इस साल उनका उत्साह चरम पर है. हरिद्वार में हेलीकॉप्टर से फूल बरसाकर उनका स्वागत किया जाएगा। सावन के महीने में भगवा रंग में डूबी भक्ति धरती पर स्वर्ग का नजारा पेश करती है। कांवड़ यात्रा भक्तों के लिए खुशियों के द्वार खोलती रहे और भारत के त्योहारों की परंपरा हमेशा समृद्धि का प्रतीक रही है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close
Back to top button